मध्यकालीन इतिहास – Medieval History

यूट्यूब पर STUDY91 चैनल के माध्यम से नितिन गुप्ता सर द्वारा बनाया गया यह ई-बुक आपके अध्ययन में बहुत ही उपयोगी साबित होगा। क्यों कि प्रतियोगिता के इस दौर में यदि आपके अध्ययन का स्तर ऊंचा रहेगा तभी आप सफल होंगें।
इस ई-बुक के माध्यम से आप विषय को पढ़ने के साथ साथ यूट्यूब पर मुफ्त में क्लास देख सकते है। जिससे आप विषय वस्तु के बारे में अपनी बेहतर समझ विकसित कर सकते है।
यह ई-बुक नितिन गुप्ता सर के द्वारा तैयार किया गया है।जिन्होंने अध्ययन के क्षेत्र में क्रांति ला दिया है।वर्तमान समय में जब शिक्षा पूरी तरह से व्यवसाय बन चुका है। वही (STUDY 91) के माध्यम से नितिन सर समस्त विषयों की मुफ़्त में शिक्षा देकर लोगों को उनके मंज़िल तक पहुंचने में उनका साथ दे रहे है।उन्हें इस लायक बना रहे है कि वह अपनी जिंदगी को और बेहतर बना सके।
इस ई-बुक को आप तभी खरीदे जब आपको यूट्यूब (STUDY91) पर नितिन सर की क्लास अच्छी लगे।
View More

Rs.100.00

Rated 5.00 out of 5 based on 1 customer rating
(1 customer review)
Compare

Product Description

मध्यकालीन इतिहास की शुरुआत भारत में अरबों के आक्रमण से शुरू होता है।इतिहास इसका गवाह है कि उस दौर में भारत किसी सोने की चिड़िया से कम नहीं था।पूरे दुनिया की हमारे देश की आर्थिक समृद्धि पर थी।आस पास के जितने भी देश थे उनकी आंखों में हमारे देश की ताकत,एकता,अखंडता, सुख समृद्धि, धन-दौलत सब गड़ रहा था।सभी लालचवश इसे पाना चाहते थे।इसी वजह से एक एक करके विदेशी आक्रमणकारियों ने हमारे देश पर आक्रमण करना शुरू किया याद रखें सभी का एक मात्र उद्देश्य था – धन दौलत लूटकर अपने देश ले जाना।शुरुआत में मुहम्मद बिन क़ासिम और महमूद ग़ज़नवी भारत से अपार धन दौलत ले गया।आप कल्पना भी नहीं कर सकते हैं कि  इन्होंने कितना लूटा ? फिर गौरी आया उसे लगा कि धन दौलत लूटकर ले जाने से अच्छा है यही शासन किया जाए।पृथ्वीराज चौहान को धोखे से मारकर उसने दिल्ली सल्तनत को जीत लिया।फिर उसके मरने के बाद उसके गुलामों ने अपनी सत्ता स्थापित कर लिया।
इस तरह से भारत पर विदेशी शक्तियों ने अपना अधिकार कर लिया।आपको ये पढ़कर बहुत मज़ा आएगा लेकिन जरा ये सोचिए कि चंद विदेशी व्यक्तियों ने भारत को कैसे जीत ? हमारे अपने ही लोगों में एकता नहीं थी।जब विदेशियों ने एक राज्य पर हमला किया तो दूसरा चुप था कि मैं क्यों रोकूँ? और जब उसके ऊपर हमला हुआ तो तीसरा चुप था। धीरे-धीरे सभी ने अपने राज्य गवाँ दिए।दिल्ली सल्तनत पर 5 वंशो ने राज किया और अंत में सुदूर देश से एक और व्यक्ति भारत आया और यहाँ के लोगों की कमजोरी देखकर यहां अपना ऐसा सिक्का जमाया जिसे हम 300 साल तक झेलते रहें।
वो था बाबर ।
आगे की कहानी पढें वीडियो में।
और नितिन सर के ई-बुक्स से अपने रिवीजन को मजबूत बनाए।
  1. 5 out of 5

    very

Add a review