Modi 2.0: मोदी-शाह समेत मंत्रीमंडल में किसे मिली कौन सी जिम्मेदारी, देेखें- पूरी सूची

click here for DOWNLOAD

MODI JI NEW CABINET LIST-2019 BY STUDY91 ON YOUTUBE

अमित शाह ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह के बाद तीसरे नंबर पर शपथ ली थी, तभी से अंदाजा लगाया जा रहा था कि उन्हें कैबिनेट में अहम जिम्मेदारी मिलेगी। मंत्रालय बंटवारे की जो सूची जारी की गई है, उसमें राजनाथ सिंह को रक्षा मंत्रालय और अमित शाह को गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इनके अलावा पूर्व रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण को इस बार वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास खुद मिनिस्ट्री ऑफ पर्सनल, पब्लिक ग्रिवांसेश एंड पेंशन्स, डिपार्टमेंट ऑफ एटॉमिक एनर्जी, डिपार्टमेंट ऑफ स्पेश, सभी महत्वपूर्ण नीतिगत मसले और उन सभी मंत्रालयों की जिम्मेदारी है जो किसी मंत्री को नहीं दिए गए हैं। मोदी मंत्रीमंडल में कुल 24 कैबिनेट मंत्री, 09 राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 24 राज्य मंत्री शामिल हैं। इसमें से अमित शाह समेत 20 मंत्री ऐसे हैं, जो पहली बार मोदी कैबिनेट में शामिल हुए हैं। यहां देखें- मंत्रीमंडल में शामिल होने वाले सांसदों और उन्हें मिले मंत्रालयों की पूरी सूची।

 

मोदी कैबिनेट में शामिल सांसद और उनके मंत्रालय की पूरी सूची

राजनाथ सिंह – उत्तर प्रदेश – रक्षा मंत्रालय
अमित शाह (पहली बार) – गुजरात – गृह मंत्रालय
नितिन गडकरी – महाराष्ट्र – सड़क परिवहन और राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय, MSME मंत्रालय
सदानंद गौड़ा – कर्नाटक

– मिनिस्ट्री ऑफ केमिकल एंड फर्टिलाइजर

राज्यसभा सदस्य निर्मला

सीतारमण – तमिलनाडु – वित्त मंत्राल और मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स

राम विलास पासवान – बिहार – मिनिस्ट्री ऑफ कंज्यूमर्स अफेयर्स फूड एंड पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन
नरेंद्र सिंह तोमर – मध्य प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर एंड फार्मर वेलफेयर, रूरल डेवलपमेंट, पंचायती राज
रविशंकर प्रसाद  – बिहार – मिनिस्ट्री ऑफ लॉ एंड जस्टिस, कम्यूनिकेशन, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड IT
हरसिमरत कौर बादल – पंजाब – मिनिस्ट्री ऑफ फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज
राज्यसभा सदस्य थावर चंद गहलोत – मध्य प्रदेश – सोशल जस्टिस एंड एम्पॉवरमेंट मंत्रालय
एस जयशंकर (पहली बार) – दिल्ली – विदेश मंत्रालय
डॉ. रमेश पोखरियाल (पहली बार) – उत्तराखंड – मानव संशाधन मंत्रालय
अर्जुन मुंडा (पहली बार) – झारखंड – मिनिस्ट्री ऑफ ट्राइबल अफेयर्स
स्मृति इरानी – उत्तर प्रदेश – महिला एवं बाल विकास मंत्रालय
डॉ हर्षवर्धन – दिल्ली – मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिलि वेलफेयर
राज्य सभा सदस्य प्रकाश जावडेकर – मध्य प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरमेंट फॉरेस्ट एंड क्लाइमेट चेंज, इनफॉरमेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग
राज्य सभा सदस्य पीयूष गोयल  – रेलवे, कॉमर्स एंड इंडस्ट्री
राज्य सभा सदस्य धर्मेंद्र प्रधान – पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस, स्टील
राज्य सभा सदस्य मुख्तार अब्बास नकवी – उत्तर प्रदेश – माइनॉरटी मंत्रालय
प्रहलाद जोशी (पहली बार) – कर्नाटक – पार्लियामेंट्री अफेयर्स, मिनिस्ट्री ऑफ कोल एंड माइन्स
महेंद्र नाथ पांडेय – उत्तर प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ स्कील डेवलपमेंट एंड एंटरप्रेन्योर्सशिप
अरविंद सावंत (पहली बार) – महाराष्ट्र – मिनिस्ट्री ऑफ हैवी इंडस्ट्रीज एंड पब्लिक एंटरप्राइजेस
गिरिराज सिंह – बिहार – मिनिस्ट्री ऑफ एनिमल हसबैंड्री, डेयरी एंड फिशरीज
गजेंद्र सिंह शेखावत – राजस्थान – जलशक्ति मंत्री

राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)
संतोष कुमार गंगवार – उत्तर प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ लेबर एंड एम्पॉवरमेंट
राव इंद्रजीत सिंह – हरियाणा – मिनिस्ट्री ऑफ स्टैटिस्टिक एंड प्रोग्राम इम्पलिमेंटेशन, मिनिस्ट्री ऑफ प्लानिंग
श्रीपद नाइक – गोवा – मिनिस्ट्री ऑफ आयुर्वेदा, योगा एंड नेचुरोपैथी एंड होम्योपैथी (आयुष मंत्रालय), मिनिस्टर ऑफ डिफेंस
जितेंद्र सिंह – जम्मू कश्मीर – मिनिस्ट्री ऑफ डवलपमेंट ऑफ नॉर्थ ईस्टर्न रीजन, मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट इन दि प्राइम मिनिस्टर ऑफिस, मिनिस्ट्री ऑफ पर्सनल पब्लिक ग्रिवांसेश एंड पेंशन्स, डिपार्टमेंट ऑफ एटोमिक एनर्जी एंड स्पेश
किरन रिजिजू – अरुणाचल प्रदेश – युवा एवं खेल मंत्रालय
प्रहलाद पटेल (पहली बार) – मध्य प्रदेश – संस्कृति मंत्रालय, मिनिस्ट्री ऑफ टूरिज्म
आर के सिंह – बिहार – मिनिस्ट्री ऑफ पॉवर, मिनिस्ट्री ऑफ न्यू एंड रिन्युअबल एनर्जी, स्कील डेवलपमेंट एंड एंटरप्रेन्योर्सशिप
हरदीप सिंह पुरी – पंजाब – मिनिस्ट्री ऑफ हाउसिंग एंड अर्बन डेवलपमेंट, नागरिक उड्डयन, कॉमर्स एंड इंडस्ट्री
मनसुख मांडविया – गुजरात – मिनिस्ट्री ऑफ शिपिंग, मिनिस्ट्री ऑफ केमिकल एंड फटलाइजर्स

 

राज्य मंत्री
फग्गन सिंह कुलस्ते – मध्य प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ स्टील
अश्विनी चौबे – बिहार – मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिलि वेलफेयर
अर्जुनराम मेघवाल – राजस्थान – पार्लियामेंट्री अफेयर्स, मिनिस्ट्री ऑफ हैवी इंडस्ट्रीज एंड पब्लिक इंटरप्राइजेस
जनरल वीके सिंह – उत्तर प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज
कृष्णपाल सिंह गुर्जर – हरियाणा – मिनिस्ट्री ऑफ सोशल जस्टिस एंड एम्पॉवरमेंट
राव साहब दानवे – महाराष्ट्र – मिनिस्ट्री ऑफ कंज्यूमेयर्स अफेयर्स फूड एंड पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन
जी कृष्ण रेड्डी (पहली बार) – तेलंगना – मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स
पुरुषोत्तम रुपाला – गुजरात – मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्यर एंड फार्मर्स वेल्फेयर्स
राज्यसभा सदस्य रामदास आठवले – महाराष्ट्र – मिनिस्ट्री ऑफ सोशल जस्टिस एंड एम्पॉवरमेंट
साध्वी निरंजन ज्योति – उत्तर प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ रूरल डवलपमेंट
संजीव बालियान  उत्तर प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ एनिमल हसबैंड्री, डेयरी एंड फिशरीज
बाबुल सुप्रीयो – पश्चिम बंगाल – मिनिस्ट्री ऑफ एनवॉयरमेंट, फॉरेस्ट एंड क्लाइमेट चेंज
संजय शामराव (पहली बार) – महाराष्ट्र – मिनिस्ट्री ऑफ ह्युमन रिसोर्सेज डवलपमेंट, कम्युनिकेशन, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड IT
अनुराग ठाकुर (पहली बार) – हिमाचल प्रदेश – मिनिस्ट्री ऑफ फाइनेंस एंड कॉरपोरेट अफेयर्स
सुरेश अंगाडी (पहली बार) – कर्नाटक – मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे
नित्यानंद राय (पहली बार) – बिहार – मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स
रतनलाल कटारिया (पहली बार) – हरियाणा – मिनिस्ट्री ऑफ सोशल जस्टिस एंड एम्पॉवरमेंट, जलशक्ति
राज्यसभा वी मुरलीधरन (पहली बार) – महाराष्ट्र – मिनिस्ट्री ऑफ एक्सटर्नल अफेयर्स, पार्लियामेंट्री अफेयर्स
रेणुका सिंह (पहली बार) – छत्तीसगढ़ – मिनिस्ट्री ऑफ ट्राइबल अफेयर्स
सोम प्रकाश (पहली बार) – पंजाब – मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री
रामेश्वर तेली (पहली बार) – असम – मिनिस्ट्री ऑफ फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज
प्रताप चंद सारंगी – ओडिशा – MSME मंत्रालय, मिनिस्ट्री ऑफ एनिमल हसबैंड्री, डेयरी एंड फिशरीज
कैलाश चौधरी (पहली बार) – राजस्थान – मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर एंड फार्मर्स वेलफेयर
देबश्री चौधरी (पहली बार) – पश्चिम बंगाल – महिला एवं बाल विकास मंत्रालय

राज्यसभा और लोकसभा का प्रतिनिधित्व
अब मंत्री परिषद में ऊपरी और निचले सदन के प्रतिनिधित्व की बात करें तो पीएम मोदी को छोड़कर 57 मंत्रियों में 8 राज्यसभा से हैं। 47 लोकसभा से सांसद हैं जबकि एस. जयशंकर और एलजेपी चीफ राम विलास पासवान किसी भी सदन का प्रतिनिधित्व नहीं करते। उन्हें अगले छह महीने के भीतर दोनों में से किसी एक सदन की सदस्यता लेनी होगी।

सुषमा स्वराज भी मंत्री नहीं बनीं
अरुण जेटली के साथ ही सुषमा स्वराज भी इस बार मंत्री नहीं बनीं। बीमारी की वजह से जेटली तो शपथ समारोह में भी शरीक नहीं हुए, जबकि सुषमा राष्ट्रपति भवन पहुंचीं, लेकिन अग्रिम पंक्ति में बैठे सभी नेताओं से मुलाकात के बाद उन्हीं की पंक्ति में बैठीं। सुषमा भी किडनी की बीमारी के बाद से अस्वस्थ रहती हैं। विदिशा से सांसद रहीं सुषमा स्वराज ने इस बार लोस चुनाव भी नहीं लड़ा है। देखना होगा कि वह राज्यसभा सदस्य बनती हैं या नहीं।

मेनका, राज्यव‌र्द्धन, प्रभु नदारद
नमो टीम-2.0 में मेनका गांधी, राज्य‌र्द्धन सिंह, सुरेश प्रभु मंत्रिमंडल में जगह नहीं पा सके हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.